Home देहरादून श्री दरबार साहिब की दीवारों पर बने भित्ती चित्रों में प्राकृतिक रंगों...

श्री दरबार साहिब की दीवारों पर बने भित्ती चित्रों में प्राकृतिक रंगों से आई सजीवता

श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज ने रंग भरने के कार्य में स्वयं दी सेवा
भित्ती चित्रों के रखरखाव, संरक्षण एवम् संवद्धन को लेकर श्री महाराज जी की विशेष पहल
कई महीनों से चल रहं कार्य को मेला आयोजन से पूर्व सम्पन्न किया गया
देहरादून। श्री झण्डा जी मेला आयोजन में शामिल होने के लिए देश विदेश से पहुंच रही संगतों के स्वागत के लिए तैयारियां जोरों पर हैं। संगतों के स्वागत के लिए श्री दरबार साहिब का कोना कोना चमकाया जा रहा है। रंग रोगन व दिल को छू देने वाली साज सज्जा से श्री दरबार साहिब की आभा इन दिनों आकर्षण का मुख्य केन्द्र बनी हुई है। काबिलेगौर है कि श्री दरबार साहिब की दीवारांे पर सुशोभित शताब्दियों पूर्व कलाकारों द्वारा बनाए गए भित्ती चित्र सदैव ही आगन्तुकों के लिए आकर्षण का केन्द्र रहे हैं। श्री दरबार साहिब के सज्जादानशीन श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज ने इन भित्ती चित्रों की साज सज्जा, रखरखाव तथा संरक्षण एवम् संवद्धन का बीडा स्वयं उठाया है। श्री महाराज जी ने भित्ती चित्रों की सजावट व रंग भरने के कार्य में स्वयं सेवा दी। उन्होंने विशेषज्ञ कलाकारों के साथ स्वयं ब्रश उठाकर भित्ती चित्रों पर रंग भरे। विगत कई माह से भित्ती चित्रों को संरक्षित एवम् सवंद्धित करने के लिए एक विशेष टीम श्री दरबार साहिब में काम करी रही है, भित्ती चित्रों पर संचालित कार्य अब पूरा हो चुका है। इस वर्ष श्री झण्डे जी मेले आयोजन में पहुंच रही संगतें इन भित्ती चित्रों के खूबसूरत रूप एवम् आकर्षक स्वरूप से रूबरू हांेगी। इन भित्ती चित्रों को पानी, धूल, प्रदूषण, धूप व मौसम की मार से बचाने के लिए विशेष तकनीक का सुरक्षा आवरण लगाया गया है।
काबिलेगौर है कि श्री दरबार साहिब के ऐतिहासिक पक्ष के साथ श्री दरबार साहिब की दीवारों पर लगे भित्ती चित्रों का गहरा नाता है। शताब्दियों पूर्व बनाए गए इन भित्ती चित्रों के माध्यम से रामायण काल, महाभारत काल, कई भगवानों व देवी देवताओं के चित्रों , संत संमाज के दार्शनिक पक्ष का मनमोहक चित्रण किया गया है। इतिहास के कई कालखण्डों को भित्ती चित्रों के संदेशों से दर्शाया गया है। यह चित्र अपने आप में बहुत कुछ कहते हैं। टिहरी की नथ को जिस स्वरूप में दर्शाया गया है वह अपने आप में पहाड़ की सजीवता को स्पर्श करने वाला संदेश देती है। श्री दरबार साहिब के करीब 346 वर्षों के इतिहास को यह भित्ती चित्र कई उदाहरणों से सजीव करने का काम कर रहे हैं।
टैंपरा तकनीक भित्ती चित्र बनाने की एक पारंपरिक तकनीक है। ऐतिहासिक इमारतों पर भित्ती चित्रों को तैयार करने में यह तकनीक आज भी बहुत प्रचलित व पसंदीदा तकनीक है। टैंपरा चित्रण की एक प्रमुख विशेषता यह है कि इसमें संश्लेषयुक्त पदार्थ (बाइंडिंग मैटीरियल के साथ) जलीय रंगों (वाटर कलर तकनीक) का प्रयोग करते हैं। इसमें किसी भी प्रकार के हानिकारिक रसायनिक रंगों का प्रयोग नहीं किया जाता है। इन रंगों का प्रभाव दीघ्रकालिक होता है। विभिन्न प्रजातियों की दुर्लभ वनस्पितियों से प्राकृतिक रंगों को तैयार श्री दरबार साहिब की दीवारों के भित्ती चित्रों पर उकेरा गया है।
श्री दरबार साहिब के सज्जादनशीन श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज ने अपने संदेश में कहा कि भित्ती चित्रों का संरक्षण एवम् संवद्धन हम सब की जिम्मेदारी है। उन्होंने मेले के दौरान आने वाली संगतों व दूनवासियों का आह्वाहन किया कि इन भित्ती चित्रों की सुन्दरता को निहारें और इनमें छिपे संदेशों को आत्मसात करें। इतिहास के विद्यार्थी व शोधार्थी इन भित्त चित्रों से जुड़ी महत्वपूर्णं जानकारियां लेकर अपने शोधपत्रों में वर्णित कर सकते हैं व सब का ज्ञानवद्धन कर सकते हैं।
श्री झण्डा साहिब मेला आयोजन समिति ने सभी आगन्तुकों एवम् संगतों से अनुग्रह किया है कि भित्ती चित्रों को छूने से बचें, बच्चे भित्ती चित्रों के साथ छेड-छाड़ न करें। यह बेहद दुर्लभ धरोहर है। आने वाली पीढ़ियों को यह धरोहर श्री दरबार साहिब के स्वर्णिम, पवित्र एवम् गौरवशाली इतिहास की याद दिलाएगी व उन्हें शिक्षित करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

शादी का झांसा देकर दुष्कर्म, आरोपित गिरफ्तार

देहरादून। फ्लैट में सफाई करने वाली एक युवती ने युवक पर शादी का झांसा देकर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है। पुलिस ने आरोपित...

मुख्यमंत्री ने राहत सामग्री के वाहनों को किया रवाना

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रविवार को नई दिल्ली स्थित उत्तराखंड सदन में भाजपा उत्तराखंड प्रकोष्ठ, फरीदाबाद व हरियाणा प्रोग्रेसिव स्कूल कांफ्रेंस सहित...

कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने श्री दरबार साहिब में टेका मत्था

श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज से की शिष्टाचार भेंट देहरादून। कृषि एवम् उद्यान मंत्री, उत्तराखण्ड गणेश जोशी ने रविवार को श्री दरबार साहिब में मत्था...

मुख्यमंत्री ने किया मिशन ड्रग्स फ्री देवभूमि का शुभारंभ, बोले – युवा नशे को दृढ़ता से कहें ना

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आज जिला कारागार, सुद्धोवाला देहरादून में मिशन ड्रग्स फ्री देवभूमि का शुभारम्भ करते हुए प्रदेशवासियों विशेषकर राज्य के...

UKPSC : उत्तराखंड पटवारी/लेखपाल भर्ती परीक्षा-2022 के प्रवेश-पत्र जारी,इस दिन होगी परीक्षा

उत्तराखंड लोक सेवा आयोग (UKPSC) ने राजस्व उप निरीक्षक (पटवारी / लेखपाल) परीक्षा -2022 के लिए प्रवेश पत्र जारी कर दिया है। उम्मीदवार अपने...

राज्यपाल ने गणतन्त्र दिवस परेड में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले एनसीसी कैडेट्स को किया सम्मानित

देहरादून। राज्यपाल लेफ़्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से.नि.) ने गुरुवार को राजभवन ऑडिटोरियम में एनसीसी निदेशालय उत्तराखण्ड द्वारा आयोजित कार्यक्रम में प्रतिभाग किया। कार्यक्रम में...

सूचना आयुक्त ने श्री दरबार साहिब में टेका मत्था

देहरादून। सूचना आयुक्त उत्तराखण्ड योगेश भट्ट ने बुधवार को श्री दरबार साहिब में मत्था टेका। उन्होने श्री दरबार साहिब के श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी...

उत्तराखंड की झांकी को देश में प्रथम स्थान के लिए किया गया पुरस्कृत

कर्तव्य पथ, नई दिल्ली गणतंत्र दिवस समारोह में उत्तराखण्ड राज्य की ओर से “मानसखण्ड” की झांकी प्रदर्शित की गई थी मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के...

जौनसार बावर के प्रसिद्ध लोक कलाकार डॉ. नंद लाल भारती को अंतर्राष्ट्रीय स्तर का ‘कला सारथी’ पुरस्कार मिलने पर किया सम्मानित

देहरादून। जौनसार बावर के प्रसिद्ध लोक कलाकार डॉ. नंद लाल भारती को अंतर्राष्ट्रीय स्तर का ‘कला सारथी’ पुरस्कार से सम्मानित होने पर उन्हें आज...

उत्तराखंड की झांकी ‘मानसखंड’ को मिला प्रथम स्थान

देहरादून। गणतंत्र दिवस परेड में उत्तराखंड की झांकी ‘मानसखंड’ को देशभर की झांकियों में प्रथम स्थान मिला है। सूचना विभाग ने संयुक्त निदेशक केएस...

Recent Comments

हेमवती नंदन कुकरेती महामंत्री हिन्दी साहित्य समिति देहरादून on हाईकोर्ट ने चारधाम यात्रा पर लगी रोक को कुछ शर्तों के साथ हटाई