Home धर्म-संस्कृति वास्तविक मनुष्य बनने के लिए मानवीय गुणों को अपनाना आवश्यक : सुदीक्षा...

वास्तविक मनुष्य बनने के लिए मानवीय गुणों को अपनाना आवश्यक : सुदीक्षा महाराज

महाराष्ट्र का 54वां निरंकारी संत समागम

यदि हम वास्तव में मनुष्य कहलाना चाहते हैं तो हमें मानवीय गुणों को अपनाना होगा। इसके विपरीत यदि कोई भी भावना मन में आती है तो हमें स्वयं का मूल्यांकन करना होगा और सूक्ष्म दृष्टि से मन के तराजू़ में तोलकर उसे देखना होगा। ऐसा करने से हमें यह एहसास होगा कि हम कहां पर गलत हैं। यह विचार निरंकारी सत्गुरु माता सुदीक्षा महाराज ने 28 फरवरी को महाराष्ट्र के 54वें प्रादेशिक निरंकारी सन्त समागम के समापन पर व्यक्त किए। 

सत्गुरू माता सुदीक्षा ने कहा कि यथार्थ मनुष्य बनने के लिए हमें हर किसी के साथ प्यार भरा व्यवहार, सबके प्रति सहानुभूति, उदार एवं विशाल होकर दूसरे के अवगुणों को अनदेखा करते हुए उनके गुणों को ग्रहण करना होगा। सबको समदृष्टि से देखते हुए एवं आत्मिक भाव से युक्त होकर दूसरों के दुख को भी अपने दुख के समान मानना होगा। इसके साथ ही और भी जो मानवीय गुण हैं उनको भी धारण करने से जीवन सुखमयी व्यतीत होगा। 

माता सुदीक्षा ने आगे कहा कि मनुष्य स्वयं को धार्मिक कहता है और अपने ही धर्म के गुरु-पीर-पैगम्बरों के वचनों का पालन करने का दावा भी करता है। परंतु वास्तविकता तो यही है कि आपकी श्रद्धा कहीं पर भी हो, हर एक स्थान पर मानवता को ही सच्चा धर्म बताया गया है और ईश्वर के साथ नाता जोड़कर अपना जीवन सार्थक बनाने की सिखलाई दी गई है। मनुष्य जीवन बड़ा ही अनमोल  है और प्रभु प्राप्ति के लिए उम्र का कोई तकाज़ा नहीं होता। किसी भी उम्र का मनुष्य ब्रह्मज्ञानी सन्तों का सान्निध्य पाकर क्षणमात्र में प्रभु-परमात्मा की पहचान कर सकता है।

समागम के प्रथम दिन सत्गुरू माता सुदीक्षा ने अपनी दिव्य वाणी में फरमाया कि ईश्वर को हम किसी भी नाम से सम्बोधित करे वह तो सर्वव्यापी है और हर किसी की आत्मा इस निराकार परमात्मा का ही अंश है। स्वयं की पहचान के लिए परमात्मा की पहचान ज़रूरी है क्योंकि ब्रह्मानुभूति से ही आत्मानुभूति सम्भव है। स्थिर परमात्मा से जीवन में स्थिरता, शान्ति और सन्तुष्टि जैसे दिव्य गुण आते हैं। परमात्मा पूरे ब्रह्माण्ड का कर्ता है इसकी अनुभूति हर कार्य को सहजता से स्वीकार करने की अनुभूति देती है। परमात्मा का आधार लेने से जीवन में उथल-पुथल सन्तुष्टि में परिवर्तित हो जाती है।

सत्गुरू माता  ने कहा कि अपने दैनिक जीवन में हर परिस्थिति का आकलन करने के लिए एवं उचित ढंग से शरीर का संचालन करने के लिए ज्ञानेंद्रियों का उपयोग करना है और इन इंद्रियों के अधीन नहीं रहना हैं। इसी पर हमारे मन का कर्म निर्भर करता है। यदि इंद्रियां हमारे नियंत्रण में है तब हम उनका उचित सदुपयोग कर पाते हैं इसलिए हमें इंद्रियों में उलझना नहीं है अपितु उन्हें अपने नियंत्रण में रखना है।

समागम के दूसरे दिन का शुभारम्भ सेवादल रैली द्वारा किया गया जिसमें महाराष्ट्र के भिन्न-भिन्न प्रांतों से आए सेवादल के भाई-बहनों ने भाग लिया। इस रैली में शारीरिक व्यायाम के अतिरिक्त खेलकूद तथा मलखम्ब जैसे साहसी करतब दिखाए गए। साथ ही साथ मिशन की सिखलाई पर आधारित लघु नाटिकायें भी प्रस्तुत की गई। 

सेवादल रैली में अपना आशीर्वाद प्रदान करते हुए सत्गुरू माता ने कहा कि सारी मानवता को अपना परिवार मानते हुए, अहंकार को त्यागकर, समय की ज़रूरत के अनुसार, मर्यादा एवं अनुशासन में रहकर मिशन द्वारा वर्षों से सेवा का योगदान दिया जा रहा है। सेवा करते हुए, हर किसी को प्रभु का अंश मानकर उसकी सेवा करनी चाहिए क्योंकि मानव सेवा परमात्मा की ही सेवा है। जो मिशन की अहम सिखलाई हैय – नर सेवा, नरायण पूजा।

दूसरे दिन शाम के सत्संग समारोह को संबोधित करते हुए सत्गुरू माता ने कहा कि जीवन में स्थिरता लाने के लिए चेतनता एवं विवेक की आवश्यकता होती है और इसके लिए यह जरूरी है कि हम परमात्मा को अपने हृदय में स्थान दें, तब मन स्वतः ही निर्मल हो जाता है। किसी भी प्रकार के नकारात्मक भावों का स्थान नहीं रहता, जब परमात्मा हृदय के रोम-रोम में बसा हो। कहा कि पुरातन सन्तों ने भी यही कहा है कि इस ईश्वर को खुली आँखों से देखा जा सकता है। परमात्मा के दर्शन से हमें स्वयं की भी पहचान हो जाती है कि हम शरीर न होकर आत्मा रूप में है। युगों युगों से सन्तों, भक्तों ने यही कहा है कि परमात्मा से नाता जोड़कर; भक्ति के पथ पर चलने से ही जीवन का कल्याण हो सकता है और हमारी आत्मा बंधन मुक्त होकर मोक्ष को प्राप्त कर सकती है।

कवि दरबार

समागम के तीसरे दिन का मुख्य आकर्षण एक बहुभाषी कवि दरबार रहा। जिसका शीर्षक ‘स्थिर से नाता जोड़ के मन का, जीवन को हम सहज बनायें’ था। इस विषय पर आधारित कई कवियों ने अपनी कवितायें मराठी, हिंदी, सिंधी, गुजराती, पंजाबी एवं भोजपुरी आदि भाषाओं के माध्यम से प्रस्तुत की। 

समागम के तीनों दिन महाराष्ट्र के विभिन्न क्षेत्रों से तथा आसपास के राज्यों एवं देश-विदेशों से भी संतों ने सम्मिलित होकर अपने भावों को अभिव्यक्त किया। इसके अतिरिक्त सम्पूर्ण अवतार बाणी एवं सम्पूर्ण हरदेव बाणी के पावन शब्दों के कीर्तन से तथा पुरातन सन्तों की रब्बी बाणियों एवं मिशन के गीतकारों की प्रेरणादायी भक्ति पूर्ण रचनाओं की प्रस्तुतियों द्वारा मिशन की विचारधारा पर आधारित सारगर्भित सन्देश दिया गया।

———————————————

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

बॉलीवुड एक्टर ऋषभ कोहली ने सीएम से की भेंट

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मंगलवार को मुख्यमंत्री आवास स्थित कैम्प कार्यालय में देहरादून निवासी युवा बॉलीवुड एक्टर ऋषभ कोहली ने भेंट की।...

होमगार्डस जवानों के लिए मुख्यमंत्री ने की कई घोषणाएं

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार को ननूरखेड़ा, देहरादून में होमगार्डस एवं नागरिक सुरक्षा के स्थापना दिवस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि प्रतिभाग...

नौकरी का झांसा देकर ठगी करने वाला पूर्व प्रधान गिरफ्तार

देहरादून। सरकारी नौकरी का झांसा देकर लोगों से लाखों रुपए की ठगी कर फरार हुए पूर्व ग्राम प्रधान को एसटीएफ ने चंडीगढ़ से गिरफ्तार...

 सीएम धामी ने किया 10 इलैक्ट्रिक बसों का शुभारंभ

आईएसबीटी से मालदेवता और आईएसबीटी से सहसपुर रोड चलेंगी इलैक्ट्रिक बसें देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रविवार को मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय से देहरादून स्मार्ट...

ब्रेकिंग: वरिष्ठ पत्रकार योगेश भट्ट बने राज्य सूचना आयुक्त

देहरादून। उत्तराखंड की धामी सरकार ने राज्य आंदोलनकारी व वरिष्ठ पत्रकार योगेश भट्ट को सूचना आयुक्त बनाया है। शासन ने इस सम्बंध में अधिसूचना...

मुख्यमंत्री ने 32 दिव्यांगजनों को किया सम्मानित, विश्व दिव्यांग दिवस सीएम ने की चार घोषणाएं

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शनिवार को विश्व दिव्यांग दिवस के अवसर पर सुभाष रोड स्थित लॉर्ड वेंकटेश्वर हॉल में समाज कल्याण विभाग...

विपिन रावत प्रकरण में सीएम के आदेश पर चौकी इंचार्ज सस्पेंड

विपिन रावत प्रकरण में मुख्यमंत्री के आदेश पर चौकी इंचार्ज सस्पेंड देहरादून। विपिन रावत प्रकरण में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर देहरादून...

दो दिवसीय राष्ट्रीय ताइक्वांडो चैंपियनशिप शुरू

देहरादून। उत्तराखंड स्पोर्ट्स ताइक्वांडो एसोसिएशन की ओर से आयोजित 13वीं राष्ट्रीय ताइक्वांडो चैंपियनशिप महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कॉलेज रायपुर में शुरू हो गई। शनिवार को...

लक्ष्मणझूला क्षेत्र में कार खाई में गिरी, एक की मौत

देहरादून। लक्ष्मणझूला क्षेत्र में शुक्रवार की शाम एक कार के खाई में गिरकर दुर्घटनाग्रस्त होने की खबर आ रही है। जानकारी के अनुसार  शाम करीब...

विकासखंड रायपुर ने जीता अंडर-21 फुटबाल का खिताब

जिला स्तरीय खेल महाकुंभ की बालक अंडर-21 व अंडर-17 फुटबॉल प्रतियोगिता देहरादून। जिला युवा कल्याण विभाग की ओर से आयोजित जिला स्तरीय खेल महाकुंभ की...

Recent Comments

हेमवती नंदन कुकरेती महामंत्री हिन्दी साहित्य समिति देहरादून on हाईकोर्ट ने चारधाम यात्रा पर लगी रोक को कुछ शर्तों के साथ हटाई