Home उत्तराखंड रणबांकुरों ने दुश्मनों को किया था चारो खाने चित्त

रणबांकुरों ने दुश्मनों को किया था चारो खाने चित्त

वर्ष 1971 के भारतपाक युद्ध में उत्तराखंडियों ने मनवाया था लोहा, 255 जवान हुए थे शहीद

74 जांबाजों को मिले वीरता पदकप्रतिवर्ष 16 दिसंबर को मनाया जाता है विजय दिवस

देहरादून । उत्तराखंड को वीरभूमि यूं ही नहीं कहा जाता है। यहां के वीर जवानों ने रणभूमि में समय—समय पर अपनी बहादुरी का लोहा मनवाया है। वर्ष 1971 का भारत—पाक युद्ध भी इसी वीरता व शौर्य का प्रतीक है। भारतीय सेना की इस अटूट विजयगाथा में उत्तराखंड के रणबांकुरों का बलिदान नहीं भुलाया जा सकता। इस युद्ध में राज्य के 255 रणबांकुरों ने मातृभूमि की रक्षा के लिए कुर्बानी दी थी। रणभूमि में दुश्मन से मोर्चा लेते राज्य के 78 सैनिक घायल भी हुए थे। इन रणबांकुरों की कुर्बानी व अदम्य साहस को पूरी दुनिया ने माना। यही वजह कि इस जंग में दुश्मन सेना से दो—दो हाथ करने वाले राज्य के 74 जांबाजों को वीरता पदक मिले थे। जवानों की वीरगाथा का स्मरण करने के लिए प्रतिवर्ष 16 दिसंबर को विजय दिवस मनाया जाता है।

जवानों के शौर्य और साहस की यह गाथा आज भी भावी पीढ$ी में जोश भरती है। इतिहास गवाह है कि वर्ष 1971 में हुए युद्ध में दुश्मन सेना को नाको चने चबाने में उत्तराखंड के जवान पीछे नहीं रहे। भारतीय सेना के तत्कालीन सेनाध्यक्ष सैम मानेका (बाद में फील्ड मार्शल) व बांग्लादेश में सेना की पूर्वी कमान का नेतृत्व करने वाले सैन्य कमांडर ले. जनरल जगजीत सिंह अरोड$ा ने भी प्रदेश के वीर जवानों के साहस को सलाम किया था। युद्ध में शामिल होने वाले थलसेना, नौसेना व वायुसेना के तमाम योद्धा जंग के उन पलों को याद कर आज भी जोशीले हो जाते हैं।

-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-

विजयगाथा संजोए है इंडियन मिलिट्री एकेडमी

पाकिस्तानी सेना के जनरल नियाजी की पिस्तौल व काफी टेबल बुक है सुरक्षित

देहरादून। 16 दिसंबर ही वह दिन था जब पाकिस्तान सेना के लेफ्टिनेंट जनरल एएके नियाजी ने अपने करीब 90 हजार सैनिकों के साथ भारतीय सेना के लेफ्टिनेंट जनरल जगजीत सिंह अरोडा के सामने आत्मसमर्पण कर हथियार डाल दिए थे। जनरल नियाजी के आत्मसमर्पण करने के साथ ही यह युद्ध भी समाप्त हो गया। इस दौरान जनरल नियाजी ने अपनी पिस्तौल जनरल अरोडा को सौंप दी थी। यह पिस्तौल आज भी भावी सैन्य अफसरों में जोश भरने का काम करती है।

भारतीय सेना का गौरवशाली इतिहास हमेशा से ही युवाआं के लिए प्रेरणा का स्रोत रहा है। देहरादून स्थित इंडियन मिलिट्री एकेडमी (आईएमए) के म्यूजियम में रखे 1971 भारत—पाकिस्तान युद्ध की एतिहासिक धरोहर और दस्तावेज कैडेटों में अपने गौरवशाली इतिहास और परंपरा को कायम रखने की प्रेरणा देते हैं। इनमें सबसे प्रमुख जनरल नियाजी की वह पिस्तौल है जो उन्होंने पाकिस्तानी सेना के आत्म—समर्पण के दौरान पूर्वी कमान के जनरल आफिसर कमांडिंग ले. जनरल अरोड$ को सौंपी थी। जनरल अरोडा ने यह पिस्टल आईएमए के गोल्डन जुबली वर्ष 1982 में आईएमए को प्रदान की थी। इसी युद्ध से जुड$ी दूसरी वस्तु एक पाकिस्तानी ध्वज है जो आईएमए के म्यूजियम में उल्टा लटका हुआ है। इस ध्वज को भारतीय सेना ने पाकिस्तान की 31 पंजाब बटालियन से सात से नौ सितंबर तक चले सिलहत युद्ध के दौरान कब्जे में लिया था। भारत—पाकिस्तान के बीच 1971 में हुए युद्ध की एक अन्य निशानी जनरल नियाजी की काफी टेबल बुक भी आईएमए में मौजूद है। यह निशानी कर्नल (रिटायर्ड) रमेश भनोट ने 38 वर्ष बाद जून 2008 में आईएमए को सौंपी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

फिल्म अभिनेता नाना पाटेकर ने सीएम से की शिष्टाचार भेंट

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में फिल्म अभिनेता नाना पाटेकर ने शिष्टाचार भेंट की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने नाना...

खेल महाकुंभ-2022 का आगाज

देहरादून। राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने शनिवार को राजीव गांधी नवोदय विद्यालय रायपुर से खेल महाकुंभ-2022 का शुभारंभ किया। युवा कल्याण...

सीएम ने श्रीकोट पहुँचकर अंकिता के परिजनों से घर पर जाकर की मुलाकात, बोले -दोषियों को दिलाई जाएगी कड़ी सजा

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आज पौड़ी के श्रीकोट में अंकिता भंडारी के परिजनों से मुलाकात की और भरोसा दिलाया कि पूरी सरकार...

अनिल चौहान बने देश के नये सीडीएस, सीएम ने दी बधाई

देहरादून।   लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान (रिटायर्ड) को देश का नया चीफ आफ डिफेंस स्टाफ (CDS) नियुक्त किया है। वह मूल रूप से उत्‍तराखंड के पौड़ी जनपद के ग्राम गवाणा, पट्टी चलनस्यू ब्लॉक खिर्सू के रहने वाले हैं।सेना की पूर्वी कमान के प्रमुख (जनरल ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ) लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान सेना में महत्वपूर्ण पदों पर रहे वह 40 साल की शानदार सेवा के बाद 31 मई 2021 को सेवानिवृत हो गए। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान (सेनि) को चीफ आफ डिफेंस स्टाफ (CDS) नियुक्त किए जाने पर हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी है सीएम धामी ने कहा कि उत्तराखंड के सपूत को चीफ आफ डिफेंस स्टाफ नियुक्त किए जाने पर प्रत्येक उत्तराखंडवासी गौरान्वित है। उन्होंने कहा कि "हमें पूर्ण विश्वास है कि आपके कुशल नेतृत्व में भारतीय सेना सदैव की भांति राष्ट्रीय सुरक्षा के क्षेत्र में नया कीर्तिमान स्थापित करेगी। -----------------

अंकिता के परिजनों को 25 लाख की आर्थिक सहायता दी जाएगी, सीएम ने दिए निर्देश

अपराधियों को दिलाई जाएगी कठोरतम सजा त्वरित न्याय के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि दिवंगत अंकिता भण्डारी...

मसूरी के जॉर्ज एवरेस्ट में शुरू हुई हिमालय दर्शन सेवा

विश्व पर्यटन दिवस के मौके पर हिमालय दर्शन सेवा का किया शुभारंभ देहरादून/मसूरी। विश्व प्रसिद्ध हिल स्टेशन मसूरी के जॉर्ज एवरेस्ट से अब पर्यटक हेलीकॉप्टर...

सीएम ने की केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री से भेंट

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली में केन्द्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जी. किशन रेड्डी से भेंट की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री...

उत्तराखंड को मिला बेस्ट टूरिज्म डेस्टिनेशन अवार्ड

पर्यटन के सर्वांगीण विकास के लिए भी प्रदेश को प्रथम पुरस्कार उपराष्ट्रपति के हाथों लिया श्री सतपाल महाराज ने अवार्ड   देहरादून/नई दिल्ली। विश्व पर्यटन दिवस के...

आयोग ने समूह ‘ग’ की 16 भर्ती परिक्षाओं का कलेंडर किया जारी

देहरादून। उत्तराखण्ड लोक सेवा आयोग को प्रेषित समूह ग की 23 परीक्षाओं के लिए अतिरिक्त परीक्षा कैलेंडर जारी कर दिया गया है।  उत्तराखंड लोक सेवा...

लकी अली ने अपनी सुरीली आवाज से दूनवासियों को किया मंत्रमुग्ध

देहरादून। प्रसिद्ध भारतीय गायक, गीतकार, संगीतकार और अभिनेता लकी अली ने आज देहरादून में ओल्ड मसूरी रोड स्थित मान एस्टेट में लाइव प्रस्तुति दी।...

Recent Comments

हेमवती नंदन कुकरेती महामंत्री हिन्दी साहित्य समिति देहरादून on हाईकोर्ट ने चारधाम यात्रा पर लगी रोक को कुछ शर्तों के साथ हटाई