Home धर्म-संस्कृति वृक्षारोपण व कलश यात्रा के साथ शिवपुराण शुरू

वृक्षारोपण व कलश यात्रा के साथ शिवपुराण शुरू

देहरादून। जो शिव के स्वरूप जानकर लिंगार्चन करता है, उसमें आत्मयोग और सम्पूर्ण शास्त्र योग प्राप्त होते है। जो शिव को पूजने से पर्यावरण संरक्षण का जीवन रक्षण का सन्देश प्राप्त होता है। एक शिव ही सृष्टि उत्पति पालन संहार करने वाले हैं। 11 बार शिव स्मरण और रूद्रीपाठ करने से सब सिद्धी प्राप्त होती है।
यह बात अनारवाला भद्राकाली मन्दिर में हरेला पर्व पर जामुन आम विल्व बृक्ष रोपण कलश यात्रा के साथ शुरू हुई शिवमहापुराण कथा ज्योतिष्पीठ ब्यास आचार्य शिव प्रसाद ममगांई ने कही।

उन्होंने कहा कि कलियुग में सबसे सरल उपाय शिव पूजन कल्याण कारी समझकर जी जो विधि पूर्वक पूजता है वह सिद्धी प्राप्त करता है। 
शिवलिंग की आधी परिक्रमा करने का विधान है। वह इसलिए की शिवलिंग के सोमसूत्र को लांघा नहीं जाता है। जब व्यक्ति आधी परिक्रमा करता है तो उसे चंद्राकार परिक्रमा कहते हैं। शिवलिंग को ज्योति माना गया है और उसके आसपास के क्षेत्र को चंद्र। आपने आसमान में अर्ध चंद्र के ऊपर एक शुक्र तारा देखा होगा। यह शिवलिंग उसका ही प्रतीक नहीं है बल्कि संपूर्ण ब्रह्मांड ज्योतिर्लिंग के ही समान है।
”अर्द्ध सोमसूत्रांतमित्यर्थ: शिव प्रदक्षिणीकुर्वन सोमसूत्र न लंघयेत ।।इति वाचनान्तरात।”
सोमसूत्र :
शिवलिंग की निर्मली को सोमसूत्र की कहा जाता है। शास्त्र का आदेश है कि शंकर भगवान की प्रदक्षिणा में सोमसूत्र का उल्लंघन नहीं करना चाहिए, अन्यथा दोष लगता है। सोमसूत्र की व्याख्या करते हुए बताया गया है कि भगवान को चढ़ाया गया जल जिस ओर से गिरता है, वहीं सोमसूत्र का स्थान होता है।

क्यों नहीं लांघते सोमसूत्र
सोमसूत्र में शक्ति-स्रोत होता है अत: उसे लांघते समय पैर फैलाते हैं और वीर्य ‍निर्मित और 5 अन्तस्थ वायु के प्रवाह पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। इससे देवदत्त और धनंजय वायु के प्रवाह में रुकावट पैदा हो जाती है। जिससे शरीर और मन पर बुरा असर पड़ता है। अत: शिव की अर्ध चंद्राकार प्रदशिक्षा ही करने का शास्त्र का आदेश है।
▪️तब लांघ सकते हैं :
शास्त्रों में अन्य स्थानों पर मिलता है कि तृण, काष्ठ, पत्ता, पत्थर, ईंट आदि से ढके हुए सोम सूत्र का उल्लंघन करने से दोष नहीं लगता है,
लेकिन ‘शिवस्यार्ध प्रदक्षिणा’ का मतलब शिव की आधी ही प्रदक्षिणा करनी चाहिए।
आचार्य ममगांई जी ने शिव पूजन परिक्रमा की चर्चा करते हुए कहा कि  भगवान शिवलिंग की परिक्रमा हमेशा बांई ओर से शुरू कर जलाधारी के आगे निकले हुए भाग यानी जल स्रोत तक जाकर फिर विपरीत दिशा में लौटकर दूसरे सिरे तक आकर परिक्रमा पूरी करें।राम चन्द्र जी ने रावण बध के बाद अयोध्या लौटते वक्त पुष्पक विमान में बैठे जानकी जी से कहा था यहां सागर तट पर रावण को मारने से पहले हमनें महादेव का पूजन किया था और वे हमारे उपर प्रसन्न हुए थे और यह लिंग जिसमें भगवान विराजमान हैं उस लिंग का नाम रामेश्वर है राम नें भी शंकर कृपा से विजय प्राप्त व राज सता प्राप्त की आदि प्रसंग पर भाव विभोर लोग हुए।

इस मौके पर पूर्व प्रधान नवीन, आचार्य पुष्कर कैन्थोला विजय थापा, सरस्वती प्रधान, आचार्य राहुल सती, आचार्य दिवाकर भट्ट, कमल किशोर, पूना प्रधान,अनिल प्रधान, उर्मिला अंजू प्रधान, बबली थापा, किशन साही, अनिता साही, आचार्य अंकित भट्ट, सावित्री प्रधान, विजन प्रधान, काजल प्रधान, विशाल, विनित, जयन्ती, संगीता, महेश प्रधान, सावित्री प्रधान, कमला प्रधान, करूणा थापा, मीरा आदि मौजूद थे।

———————

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

फिल्म अभिनेता नाना पाटेकर ने सीएम से की शिष्टाचार भेंट

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में फिल्म अभिनेता नाना पाटेकर ने शिष्टाचार भेंट की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने नाना...

खेल महाकुंभ-2022 का आगाज

देहरादून। राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने शनिवार को राजीव गांधी नवोदय विद्यालय रायपुर से खेल महाकुंभ-2022 का शुभारंभ किया। युवा कल्याण...

सीएम ने श्रीकोट पहुँचकर अंकिता के परिजनों से घर पर जाकर की मुलाकात, बोले -दोषियों को दिलाई जाएगी कड़ी सजा

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आज पौड़ी के श्रीकोट में अंकिता भंडारी के परिजनों से मुलाकात की और भरोसा दिलाया कि पूरी सरकार...

अनिल चौहान बने देश के नये सीडीएस, सीएम ने दी बधाई

देहरादून।   लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान (रिटायर्ड) को देश का नया चीफ आफ डिफेंस स्टाफ (CDS) नियुक्त किया है। वह मूल रूप से उत्‍तराखंड के पौड़ी जनपद के ग्राम गवाणा, पट्टी चलनस्यू ब्लॉक खिर्सू के रहने वाले हैं।सेना की पूर्वी कमान के प्रमुख (जनरल ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ) लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान सेना में महत्वपूर्ण पदों पर रहे वह 40 साल की शानदार सेवा के बाद 31 मई 2021 को सेवानिवृत हो गए। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान (सेनि) को चीफ आफ डिफेंस स्टाफ (CDS) नियुक्त किए जाने पर हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी है सीएम धामी ने कहा कि उत्तराखंड के सपूत को चीफ आफ डिफेंस स्टाफ नियुक्त किए जाने पर प्रत्येक उत्तराखंडवासी गौरान्वित है। उन्होंने कहा कि "हमें पूर्ण विश्वास है कि आपके कुशल नेतृत्व में भारतीय सेना सदैव की भांति राष्ट्रीय सुरक्षा के क्षेत्र में नया कीर्तिमान स्थापित करेगी। -----------------

अंकिता के परिजनों को 25 लाख की आर्थिक सहायता दी जाएगी, सीएम ने दिए निर्देश

अपराधियों को दिलाई जाएगी कठोरतम सजा त्वरित न्याय के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि दिवंगत अंकिता भण्डारी...

मसूरी के जॉर्ज एवरेस्ट में शुरू हुई हिमालय दर्शन सेवा

विश्व पर्यटन दिवस के मौके पर हिमालय दर्शन सेवा का किया शुभारंभ देहरादून/मसूरी। विश्व प्रसिद्ध हिल स्टेशन मसूरी के जॉर्ज एवरेस्ट से अब पर्यटक हेलीकॉप्टर...

सीएम ने की केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री से भेंट

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली में केन्द्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जी. किशन रेड्डी से भेंट की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री...

उत्तराखंड को मिला बेस्ट टूरिज्म डेस्टिनेशन अवार्ड

पर्यटन के सर्वांगीण विकास के लिए भी प्रदेश को प्रथम पुरस्कार उपराष्ट्रपति के हाथों लिया श्री सतपाल महाराज ने अवार्ड   देहरादून/नई दिल्ली। विश्व पर्यटन दिवस के...

आयोग ने समूह ‘ग’ की 16 भर्ती परिक्षाओं का कलेंडर किया जारी

देहरादून। उत्तराखण्ड लोक सेवा आयोग को प्रेषित समूह ग की 23 परीक्षाओं के लिए अतिरिक्त परीक्षा कैलेंडर जारी कर दिया गया है।  उत्तराखंड लोक सेवा...

लकी अली ने अपनी सुरीली आवाज से दूनवासियों को किया मंत्रमुग्ध

देहरादून। प्रसिद्ध भारतीय गायक, गीतकार, संगीतकार और अभिनेता लकी अली ने आज देहरादून में ओल्ड मसूरी रोड स्थित मान एस्टेट में लाइव प्रस्तुति दी।...

Recent Comments

हेमवती नंदन कुकरेती महामंत्री हिन्दी साहित्य समिति देहरादून on हाईकोर्ट ने चारधाम यात्रा पर लगी रोक को कुछ शर्तों के साथ हटाई