Home विविध बारिश से रैणी गाँव खतरे की जद में, ग्रामीणों में भय

बारिश से रैणी गाँव खतरे की जद में, ग्रामीणों में भय

मानसी जोशी 

कभी आपदा का खतरा तो कभी भूस्खलन का डर
उत्तराखंड के कई पहाड़ी क्षेत्रों में अब बरसात ने दस्तक दे दी है। जिसमे से एक क्षेत्र चमोली जिले का रैणी गाँव भी है। बीते एक हफ्ते में हुई बारिश में कारण रैणी गाँव खतरे में है। बरसात के कारण गाँव के अगल-बगल स्थित खाली स्थान पर एक फ़ीट चौड़ी और करीब आधा किलोमीटर लम्बी दरार आ चुकी है। जिसके कारण गाँव वालों को डर है कि अगर यही स्तिथि बनी रही तो भूस्खलन हो सकता है। गाँव के लगभग 25 मकानों में भी गहरी दरारे आ चुकी है। जिसमे रहने वाले लगभग 30 परिवार प्रभावित हुए है । उन्हें डर है कि यदि कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया तो उनके मकान जल्द ही किसी हादसे का शिकार बन सकते हैं।
इतना ही नहीं, बरसात के कारण रैणी गाँव को हाईवे से जोड़ने वाला एक रास्ता भी क्षतिग्रस्त हो गया। हलाकि अभी गाँव वालों के पास आवा जाही के लिए दूसरा रास्ता हैं। पर सबसे ज्यादा दुखद बात यह रही कि रैणी गाँव कि पहचान, चिपको आंदोलन को जिस मार्ग से शुरू किया गया था वो मार्ग पूरी तरह से क्षतिग्रश हो गया। गाँव वालों का कहना हैं कि, गौरा देवी ने इसी मार्ग से चिपको आंदोलन को शुरू किया था। जिसके बाद उस मार्ग का नाम “चिपको आंदोलन पथ” रख दिया गया था।
आज से करीब चार महीने पहले, 7 फरवरी 2021 को उत्तराखंड के चमोली जिले में एक हिमखंड टूटने के कारण आई बाढ़ ने भारी तबाही मचाई। यह बाढ़ इतनी भयावह थी की इसने एक आपदा का रूप ले लिया था। ऋषि गंगा नदी में आई इस बाढ़ के कारण सैकड़ो लोग प्रभावित हुए थे। आपदा के कारण ऋषि गंगा नदी पर बना, ऋषिगंगा पावर प्रोजेक्ट पूरी तरह से नष्ट हो गया था, जो आज तक बंद है। सरकारी आकड़ों की मानें तो इस जलप्रलय में 205 लोग लापता हो गए थे, जिसमे से 77 लोगों के शव बरामद कर लिए गए। पर 128 लोग अभी भी लापता हैं।


इस पूरी घटना में सबसे ज्यादा चौकाने वाली बात ये थी कि, सर्दी के महीने कि चटख धूप के बीच में इस आपदा ने जन्म लिया था। इससे पहले भी उत्तराखंड में कई बार बाढ़ आई है, लेकिन बरसात या फिर गर्मी के महीनों में। यह पहली बार था कि कोई हिमखंड सर्दी के महीने में टूटकर नदी से जा मिला और आपदा का रूप ले लिया। इस आपदा ने हज़ारों लोगों को झकझोर कर रख दिया था। ऋषि गंगा नदी का बहाव इतना तेज़ था कि नदी कि ऊपर स्तिथ रैणी गाँव के निचले हिस्से में मिट्टी का कटाओ होने लगा था। पर ये बात यही खत्म नहीं होती। ऋषि गंगा नदी के ऊपरी भाग पर स्तिथ रैणी गाँव के लोगों के सर पर एक खतरा मंडराने लगा था। गाँव वालों को डर था कि आपदा के बाद, बरसात के महीने में उन्हें भूस्खलन जैसे भयानक घटना का सामना करना पड़ सकता है। आज आपदा के चार महीने बाद रैणी गाँव के लोगों के अंदर का डर सच होता दिखाई दे रहा है। इससे गाँव के करीब 55 से 60 परिवार खौफ में हैं।
रैणी गाँव के ही एक निवासी सोहन सिंह ने हमें बताया कि, 2 जून 2021 को उन्होंने इसी खतरे कि शिकायत मुख्यमंत्री हेल्पलाइन नंबर 1905 पर करी। लेकिन उन्हें वहां से यह जवाब मिला, कि पहले आप प्रसाशन को अपनी शिकायत दर्ज करवाए उसके बाद हमसे संपर्क करें। जिसके बाद उन्होंने चमोली जिले के उपजिलाधिकारी को एक पत्र लिखकर शिकायत करी। जिसमे उन्होंने रैणी गाँव में भूस्खलन के खतरे का जिक्र किया। अभी कोरोना वायरस के चलते उनके गाँव में गाड़ियों की आवा जाही भी बंद हैं। जिसके कारण उन्होंने यह शिकायत मेल द्वारा की हैं। पर उन्हें प्रसाशन से किसी भी प्रकार कि मदद की कोई उम्मीद नहीं हैं।


सोहन सिंह का कहना हैं कि इस सन्दर्भ में उन्होंने पहले भी तहसील स्तर में कई बार शिकायत की थी। लेकिन अभी तक कोई भी कदम नहीं उठाया गया हैं। वो यह भी कहते हैं की आपदा के बाद भूस्खलन के खतरे की शिकायत करने के बाद भी कोई सरकारी अधिकारी रैणी गाँव नहीं आया। यहाँ तक की मुख्यमंत्री स्तर तक भी शिकायत करी गयी थी पर उसका कोई परिणाम नहीं निकला।
बरसात के कारण पहाड़ी क्षेत्रों कि मिट्टी कमज़ोर होने लगती हैं जिसके कारण घरों के ढहने का खतरा बढ़ जाता हैं। एक हल्का सा भूस्खलन भी इन इलाकों में किसी कि जान लेने के लिए काफी हैं। नंदादेवी नेशनल पार्क के अंदर स्तिथ रैणी गाँव कोर जोन और बफर जोन के अंदर आता हैं। जो की काफी संवेदनशील हिस्सा हैं। जिसमे भूस्खलन जैसी घटनाये थोड़ी सी लापरवाही के कारण हो सकती हैं। यही खतरा अभी रैणी गाँव को भी है। चिपको आंदोलन जैसी आग को जन्म देने वाला ये गाँव आज प्रसाशन के सामने लाचार है। उम्मीद है की इस बार प्रसाशन इस बात को नज़रअंदाज़ नहीं करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

बॉलीवुड एक्टर ऋषभ कोहली ने सीएम से की भेंट

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मंगलवार को मुख्यमंत्री आवास स्थित कैम्प कार्यालय में देहरादून निवासी युवा बॉलीवुड एक्टर ऋषभ कोहली ने भेंट की।...

होमगार्डस जवानों के लिए मुख्यमंत्री ने की कई घोषणाएं

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार को ननूरखेड़ा, देहरादून में होमगार्डस एवं नागरिक सुरक्षा के स्थापना दिवस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि प्रतिभाग...

नौकरी का झांसा देकर ठगी करने वाला पूर्व प्रधान गिरफ्तार

देहरादून। सरकारी नौकरी का झांसा देकर लोगों से लाखों रुपए की ठगी कर फरार हुए पूर्व ग्राम प्रधान को एसटीएफ ने चंडीगढ़ से गिरफ्तार...

 सीएम धामी ने किया 10 इलैक्ट्रिक बसों का शुभारंभ

आईएसबीटी से मालदेवता और आईएसबीटी से सहसपुर रोड चलेंगी इलैक्ट्रिक बसें देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रविवार को मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय से देहरादून स्मार्ट...

ब्रेकिंग: वरिष्ठ पत्रकार योगेश भट्ट बने राज्य सूचना आयुक्त

देहरादून। उत्तराखंड की धामी सरकार ने राज्य आंदोलनकारी व वरिष्ठ पत्रकार योगेश भट्ट को सूचना आयुक्त बनाया है। शासन ने इस सम्बंध में अधिसूचना...

मुख्यमंत्री ने 32 दिव्यांगजनों को किया सम्मानित, विश्व दिव्यांग दिवस सीएम ने की चार घोषणाएं

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शनिवार को विश्व दिव्यांग दिवस के अवसर पर सुभाष रोड स्थित लॉर्ड वेंकटेश्वर हॉल में समाज कल्याण विभाग...

विपिन रावत प्रकरण में सीएम के आदेश पर चौकी इंचार्ज सस्पेंड

विपिन रावत प्रकरण में मुख्यमंत्री के आदेश पर चौकी इंचार्ज सस्पेंड देहरादून। विपिन रावत प्रकरण में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर देहरादून...

दो दिवसीय राष्ट्रीय ताइक्वांडो चैंपियनशिप शुरू

देहरादून। उत्तराखंड स्पोर्ट्स ताइक्वांडो एसोसिएशन की ओर से आयोजित 13वीं राष्ट्रीय ताइक्वांडो चैंपियनशिप महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कॉलेज रायपुर में शुरू हो गई। शनिवार को...

लक्ष्मणझूला क्षेत्र में कार खाई में गिरी, एक की मौत

देहरादून। लक्ष्मणझूला क्षेत्र में शुक्रवार की शाम एक कार के खाई में गिरकर दुर्घटनाग्रस्त होने की खबर आ रही है। जानकारी के अनुसार  शाम करीब...

विकासखंड रायपुर ने जीता अंडर-21 फुटबाल का खिताब

जिला स्तरीय खेल महाकुंभ की बालक अंडर-21 व अंडर-17 फुटबॉल प्रतियोगिता देहरादून। जिला युवा कल्याण विभाग की ओर से आयोजित जिला स्तरीय खेल महाकुंभ की...

Recent Comments

हेमवती नंदन कुकरेती महामंत्री हिन्दी साहित्य समिति देहरादून on हाईकोर्ट ने चारधाम यात्रा पर लगी रोक को कुछ शर्तों के साथ हटाई