Home देहरादून यहां गर्भवती महिला ने रास्ते में दिया बच्चे को जन्म

यहां गर्भवती महिला ने रास्ते में दिया बच्चे को जन्म

यातायात के अभाव में रास्ते में ही बच्चे को जन्मा

जगदीश ग्रामीण 

देहरादून। पहाड़ की महिलाओं के लिए पहाड़ पर पहाड़ जैसी समस्याएं हैं। जिनसे उन्हें हर दिन दो-चार होना पड़ता है। ऐसा ही एक मामला सौंग घाटी – घुत्तू क्षेत्र का सामने आया है जिसमें एक महिला ने यातायात सुविधा के अभाव में बच्चे को रास्ते में ही जन्म दिया।ईश्वरानुकम्पा से जच्चा बच्चा दोनों स्वस्थ हैं।

25 जुलाई को प्रातः ही ग्राम पंचायत “हल्द्वाड़ी” के गंन्धकपानी (सेरा) की एक गर्भवती महिला श्रीमती संगीता देवी पत्नी श्री दिनेश सिंह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र रायपुर के लिए परिजनों के साथ निकली। गर्भवती महिला कुछ किलोमीटर गंन्धकपानी से रंगड़ गांव तक पैदल चलते-चलते थक गईं। विषम परिस्थितियों में महिला ने बच्चे को रास्ते में ही जन्म दे दिया। किसी तरह स्थानीय लोगों ने मदद कर उनको दुकान के एक कमरे में आश्रय दिया और महिला ने वहीं बच्चे को जन्म दिया।
यह क्षेत्र विधानसभा डोईवाला और विधानसभा धनोल्टी और विकास खंड रायपुर विकासखंड जौनपुर विकास खंड चंबा का सीमावर्ती क्षेत्र है।
आमतौर पर बरसात के मौसम में चर्चाओं में घुत्तू क्षेत्र बना रहता है। यह क्षेत्र सौंग नदी के तट पर स्थित है। और आज भी सड़क, स्वास्थ्य और संचार जैसी मूलभूत सुविधाओं से वंचित है।
यह क्षेत्र देहरादून से मात्र केवल 15 किलोमीटर की दूरी पर हैं। राजधानी के समीप होने पर भी यहां पर आज तक किसी प्रकार की सुविधाएं यहां के लोगों को नहीं मिल पाई हैं। यहां पर स्थानीय शासन प्रशासन को क्षेत्र की किसी भी प्रकार की असुविधाओं की कोई खबर ही नहीं रहती है। शासन प्रशासन यहां पर अपनी जिम्मेदारियों से दूर भागता नजर आताः है। कई बार आए दिन ऐसी घटनाएं होती रहती हैं। बरसात में इन दिनों सौंग नदी का जलस्तर अत्यधिक बढ़ जाता है जिससे कि क्षेत्रवासियों की वैकल्पिक सड़क मालदेवता से गन्धकपानी वाली बाधित हो जाती है। ऐसे में क्षेत्रवासियों के पास एक ही मात्र बिकल्प होता है पैदल यात्रा। जी कि जोखिम भरा सफर आए दिन क्षेत्र के लोग दूर-दूर से तय करते हैं। ग्राम पंचायत पसनी, सेरा, रगड़ गांव, कुण्ड, तौलियाकाटल, घुड़साल गांव, लडवाकोट के ग्रामीण यहां से 10-10 और 12-12 किलोमीटर सौंग नदी के किनारे पैदल चलकर देहरादून के लिए अपना सफर तय करते हैं।
अनिल सिंह ऐरला (प्रधान ग्राम पंचायत सेरा ) ने बताया कि बरसात में आए दिन ऐसी घटनाएं यहां पर आम बात है। हर बरसात के मौसम में तीन-चार माह यहां बहुत ही विकट परिस्थितियां हो जाती हैं और ऐसी विकट परिस्थितियों में बीमार हो जाने पर उपचार के लिए मरीज को कुर्सी या चारपाई के सहारे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र रायपुर, मालदेवता या देहरादून पहुंचाया जाता है। क्योंकि यहां पर किसी भी प्रकार की स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं हैं। यहां के लोग आज भी अपना जीवन विषम परिस्थितियों में व्यतीत कर रहे हैं और अपनी जान को जोखिम में डालकर पैदल ही शहर का सफर तय करना ही मात्र एक विकल्प है। उन्होंने शासन प्रशासन से मांग की है कि इस क्षेत्र में मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएं।
अनिल सिंह ऐरला ने बताया कि मूलभूत सुविधाओं की कमी के लिए गांव के लोग स्थानीय जनप्रतिनिधियों को इसका जिम्मेदार ठहराते हैं जबकि सड़क, संचार स्वास्थ्य जैसी मूलभूत सुविधाओं के लिए विधायको, सांसदों को सत्ता में लाया जाता है। स्थानीय जनप्रतिनिधियों का स्तर है सिर्फ शासन प्रशासन से क्षेत्र के विकास के लिए मांग करना और हम मांग आज से नहीं कई वर्षों से करते आ रहे हैं किंतु शासन-प्रशासन इतना लापरवाह हो गया है कि क्षेत्र की आवाज उनके कानों तक पहुंच ही नहीं रही है। हम लोगों का दुर्भाग्य है कि हम राजधानी के इतने नजदीक होते हुए भी आज अपना जीवन ऐसी विकट परिस्थितियों में काट रहे हैं मानो जैसे कि हम 18वीं सदी में अपना जीवन यापन कर रहे हों। आज की 21वीं सदी विकास की सदी है किंतु वह विकास की झलक हम नहीं देख पा रहे हैं। क्योंकि हम आज भी अपना जीवन वैसे ही यापन कर रहे हैं जैसे हमारे पूर्वज करते आए है। यह बहुत चिंता की बात है। क्षेत्रवासियों ने भी शासन-प्रशासन से क्षेत्र में मूलभूत समस्याओं के समाधान की मांग की है।

———————-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सीएम धामी ने बच्चों के साथ सुनी प्रधानमंत्री की मन की बात

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने राष्ट्रीय दृष्टि दिव्यांगजन सशक्तिकरण संस्थान के सभागार में संस्थान एवं समाज कल्याण विभाग के राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालय...

स्वास्थ्य शिविर का 62 पत्रकारों व उनके परिजनों ने उठाया लाभ

देहरादून। उत्तरांचल प्रेस क्लब में लायंस क्लब के सहयोग से पत्रकारों व उनके पारिवारिक सदस्यों के लिए स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया। शिविर...

महानगर भाजपा के प्रतिनिधियों ने सीएम से की भेंट

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से शनिवार को मुख्यमंत्री आवास स्थित कैम्प कार्यालय में महानगर भाजपा के प्रतिनिधियों ने भाजपा महानगर अध्यक्ष सिद्धार्थ अग्रवाल...

महिलाओं को सरकारी नौकरी में 30 प्रतिशत क्षैतिज आरक्षण लागू किए जाने पर महिला मोर्चा ने सीएम का जताया आभार

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शनिवार को मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय स्थित मुख्य सेवक सदन में भाजपा प्रदेश महिला मोर्चा द्वारा आयोजित कार्यक्रम में...

जोगीवाला में अतिक्रमण पर चला बुलडोजर

देहरादून। जोगीवाला में प्रशासन ने बुलडोजर चलाकर अतिक्रमण हटाया गया। चिह्नित किए गए अतिक्रमण को शनिवार को प्रशासन ने बुलडोजर चलाकर शुरू किया। प्रशासन...

भाजपा ने की प्रदेश कार्यसमिति और विशेष आमंत्रित सदस्यों की घोषणा, देखें लिस्ट

देहरादून। भाजपा ने प्रदेश कार्यसमिति और विशेष आमंत्रित सदस्यों की घोषणा कर दी है। प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट के निर्देश पर यह नियुक्तियां की...

मुख्यमंत्री ने स्कूली बच्चों के साथ ‘परीक्षा पे चर्चा-2023’ कार्यक्रम में किया प्रतिभाग

देहरादून। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम से ‘परीक्षा पे चर्चा- 2023’ कार्यक्रम में देश के छात्र-छात्राओं, अध्यापकों एवं अभिभावकों से संवाद...

प्रथम विंटर कार्निवाल बैंडमिंटन चैंपियनशिप पांच फरवरी को

देहरादून।  देवभूमि बैडमिंटन वेलफेयर सोसाइटी की ओर से प्रथम विंटर कार्निवाल बैडमिंटन डबल्स चैंपियनशिप पांच फरवरी को परेड ग्राउंड स्थित बैडमिंटन हाॅल में आयोजित...

गणतंत्र दिवस: सराहनीय सेवाओं के लिए पुलिस अधिकारियों को किया सम्मानित, उद्यान विभाग की झांकी रही प्रथम

देहरादून। 74वें गणतंत्र दिवस पर राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने गुरुवार को परेड ग्राउंड में आयोजित गणतंत्र दिवस समारोह में ध्वज...

गणतंत्र दिवस पर क्रिकेटर ऋषभ पंत की मदद करने वाले हुए सम्मानित

देहरादून। गणतंत्र दिवस के अवसर पर परेड ग्राउंड देहरादून में राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) एवं मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सड़क...

Recent Comments

हेमवती नंदन कुकरेती महामंत्री हिन्दी साहित्य समिति देहरादून on हाईकोर्ट ने चारधाम यात्रा पर लगी रोक को कुछ शर्तों के साथ हटाई