Home धर्म-संस्कृति प्रसिद्ध साहित्यकार दिनेश चमोला “शैलेश” को विज्ञान परिषद ने किया सम्मानित

प्रसिद्ध साहित्यकार दिनेश चमोला “शैलेश” को विज्ञान परिषद ने किया सम्मानित

देहरादून। साहित्य अकादमी (बाल साहित्य)  पुरस्कार से सम्मानित साहित्यकार, प्रो. दिनेश चमोला “शैलेश” को  हिंदी में विज्ञान लेखन के क्षेत्र में इलाहाबाद की प्रसिद्ध संस्था विज्ञान परिषद द्वारा सम्मानित किया ।  प्रख्यात शिक्षाविद एवं परिषद के उप सभापति डॉ. कृष्ण बिहारी पांडेय तथा प्रो.एस.जी.मिश्र ने शॉल ओढ़ाकर प्रो.चमोला का अभिनंदन किया । प्रो.चमोला ने परिषद द्वारा प्रतिवर्ष आयोजित प्रतिष्ठित ‘डॉ. रामकुमारी मिश्र व्याख्यानमाला’ के विशिष्ट अतिथि के रूप में इसमें प्रतिभागिता की तथा ‘अर्थ तत्त्व एवं शब्द शक्तियां’ विषय पर सारगर्भित व्याख्यान दिया जिसकी उपथित विद्वानों ने भूरी-भूरी प्रशंसा की । उन्होंने अक्षर, शब्द-संरचना, अर्थ-परिवर्तन की दिशाओं के भाषवैज्ञानिक चिंतन के साथ-साथ साहित्य के नामचीन साहित्यकारों के व्यावहारिक संस्मरणों के माध्यम से विषय को रोचकता व प्रामाणिकता प्रदान की । पिछले चालीस (40) वर्षों से देश की अनेकानेक पत्र-पत्रिकाओं के लिए अनवरत लिखने वाले साहित्यकार प्रो.चमोला हिंदी जगत में अपने बहु-आयामी लेखन के लिए सुविख्यात हैं ।

बता दें कि 14 जनवरी, 1964 को उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जनपद के ग्राम कौशलपुर में स्वर्गीय पं. चिंतामणि चामोला ज्योतिषी एवं  माहेश्वरी देवी के घर मेँ जन्मे प्रो. चमोला  ने शिक्षा में प्राप्त कीर्तिमानों यथा एम॰ ए॰ अंग्रेजी, प्रभाकर; एम॰ ए॰ हिंदी (स्वर्ण पदक प्राप्त); पीएच-डी॰, डी॰लिट्ट॰ के साथ-साथ साहित्य के क्षेत्र में भी राष्ट्रव्यापी पहचान बनाई है। अभी तक प्रो. चमोला  ने उपन्यास, कहानी, दोहा, कविता, एकांकी,  बाल साहित्य, समीक्षा, शब्दकोश, अनुवाद, व्यंग्य, लघुकथा, साक्षात्कार, स्तंभ लेखन के साथ-साथ एवं  साहित्य की विविध विधाओं में छिहत्तर (76) से अधिक पुस्तकों में लेखन किया है । आपके व्यापक मौलिक साहित्य पर देश के विभिन्न विश्वविद्यालयों में एम.फिल्./पीएच॰डी स्तरीय कई शोध प्रबंध संपन्न हो चुके हैं /चल रहे हैं ।
आपकी चर्चित पुस्तकों में ‘यादों के खंडहर, ‘टुकडा-टुकड़ा संघर्ष, ‘प्रतिनिधि बाल कहानियां, ‘श्रेष्ठ बाल कहानियां, ‘दादी की कहानियां¸ नानी की कहानियां, माटी का कर्ज, ‘स्मृतियों का पहाड़, ‘क्षितिज के उस पार, ‘कि भोर हो गई, ‘कान्हा की बांसुरी, ’मिस्टर एम॰ डैनी एवं अन्य कहानियाँ,‘एक था रॉबिन, ‘पर्यावरण बचाओ, ‘नन्हे प्रकाशदीप’, ‘एक सौ एक बालगीत, ’मेरी इक्यावन बाल कहानियाँ, ‘बौगलु माटु त….,‘विदाई,  ‘अनुवाद और अनुप्रयोग, ‘प्रयोजनमूलक प्रशासनिक हिंदी, ‘झूठ से लूट’, ‘गायें गीत ज्ञान विज्ञान के’ ‘मेरी 51 विज्ञान कविताएँ’ तथा ‘व्यावहारिक राजभाषा शब्दकोश’ आदि प्रमुख हैं। श्री चमोला उत्कृष्ट साहित्य सृजन एवं उल्लेखनीय हिदी सेवा हेतु देश-विदेश की पचास से अधिक संस्थाओं द्वारा सम्मान पुरस्कार प्राप्त हो चुके हैं।आपके संपादन में प्रकाशित बहुचर्चित हिंदी पत्रिका ‘विकल्प’ ने  राष्ट्रीय स्तर पर अपने महत्वपूर्ण विशेषांकों के माध्यम से अपनी अलग पहचान अर्जित की है। डॉ॰ चमोला ने भारत सरकार में संयुक्त निदेशक (हिन्दी) सहित विभिन्न सरकारी पदों पर कार्य किया है तथा पूर्व में भारतीय पेट्रोलियम संस्थान, देहरादून में राजभाषा के प्रमुख रहे हैं तथा वर्तमान में उत्तराखंड संस्कृत विश्वविद्यालय, हरिद्वार में आधुनिक  ज्ञान  विज्ञान संकाय के डीन तथा भाषा एवं आधुनिक  ज्ञान  विज्ञान के अध्यक्ष हैं । गढ़ विहार, फेज-1, देहरादून  में रहते हैं ।

डॉ॰ चमोला ने देश के शताधिक विद्वानों के साक्षात्कार लिए हैं। अपने अनेक साक्षात्कार, रचनाओं का प्रसारण देश के 8 दूरदर्शन केंद्रों तथा 12 आकाशवाणी केंद्रों से प्रसारित हुए हैं । देश-विदेश की सैकड़ों पत्र-पत्रिकाओं के स्थापित लेखक  हैं ।  ।
आपके उपन्यास ‘टुकड़ा-टुकड़ा संघर्ष’ का कन्नड़ भाषा तथा अनेक रचनाओं का विभिन्न भारतीय देशी-विदेशी भाषाओं में अनुवाद एवं प्रकाशन हुआ है।  देश के अनेक विश्वविद्यलयों, आयोगों की परीक्षाओं;  शोध समितियों, पाठ्यक्रम समितियों के साथ-साथ पी-एच.डी, एम.फिल, एम.ए. की परीक्षाओं के प्रश्ननिर्माता, मूल्यांकनकर्ता, परीक्षक व सम्मानित विशेषज्ञ हैं। साहित्य अकादमी,दिल्ली की जनरल काँसिल तथा हिंदी परामर्श मंडल के सम्मानित सदस्य भी हैं । इसके साथ ही आप नेशनल बुक ट्रस्ट ऑफ इंडिया , भारत सरकार, मानव संसाधन विकास मंत्रालय की हिंदी सलाहकार समिति के सदस्य भी हैं । आपके द्वारा अनुवाद, प्रयोजनमूलक हिंदी व व्यावहारिक राजभाषा शब्दकोश सदृश पुस्तकें देश के अनेक विश्वविद्यालयों में संदर्भ पुस्तकों के रूप में लगी हुई हैं ।
इस अवसर पर आपने चर्चित हिंदी पत्रिका ‘अभिनव इमरोज़’ के अपने अतिथि संपादन में प्रकाशित ‘प्रो. शिव गोपाल मिश्र विशेषांक’, सितंबर, 2021 तथा लोकगीत विषयक प्रो मिश्र की पुस्तक के लोकार्पण भी किया।
———————-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सीएम धामी ने बच्चों के साथ सुनी प्रधानमंत्री की मन की बात

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने राष्ट्रीय दृष्टि दिव्यांगजन सशक्तिकरण संस्थान के सभागार में संस्थान एवं समाज कल्याण विभाग के राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालय...

स्वास्थ्य शिविर का 62 पत्रकारों व उनके परिजनों ने उठाया लाभ

देहरादून। उत्तरांचल प्रेस क्लब में लायंस क्लब के सहयोग से पत्रकारों व उनके पारिवारिक सदस्यों के लिए स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया। शिविर...

महानगर भाजपा के प्रतिनिधियों ने सीएम से की भेंट

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से शनिवार को मुख्यमंत्री आवास स्थित कैम्प कार्यालय में महानगर भाजपा के प्रतिनिधियों ने भाजपा महानगर अध्यक्ष सिद्धार्थ अग्रवाल...

महिलाओं को सरकारी नौकरी में 30 प्रतिशत क्षैतिज आरक्षण लागू किए जाने पर महिला मोर्चा ने सीएम का जताया आभार

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शनिवार को मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय स्थित मुख्य सेवक सदन में भाजपा प्रदेश महिला मोर्चा द्वारा आयोजित कार्यक्रम में...

जोगीवाला में अतिक्रमण पर चला बुलडोजर

देहरादून। जोगीवाला में प्रशासन ने बुलडोजर चलाकर अतिक्रमण हटाया गया। चिह्नित किए गए अतिक्रमण को शनिवार को प्रशासन ने बुलडोजर चलाकर शुरू किया। प्रशासन...

भाजपा ने की प्रदेश कार्यसमिति और विशेष आमंत्रित सदस्यों की घोषणा, देखें लिस्ट

देहरादून। भाजपा ने प्रदेश कार्यसमिति और विशेष आमंत्रित सदस्यों की घोषणा कर दी है। प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट के निर्देश पर यह नियुक्तियां की...

मुख्यमंत्री ने स्कूली बच्चों के साथ ‘परीक्षा पे चर्चा-2023’ कार्यक्रम में किया प्रतिभाग

देहरादून। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम से ‘परीक्षा पे चर्चा- 2023’ कार्यक्रम में देश के छात्र-छात्राओं, अध्यापकों एवं अभिभावकों से संवाद...

प्रथम विंटर कार्निवाल बैंडमिंटन चैंपियनशिप पांच फरवरी को

देहरादून।  देवभूमि बैडमिंटन वेलफेयर सोसाइटी की ओर से प्रथम विंटर कार्निवाल बैडमिंटन डबल्स चैंपियनशिप पांच फरवरी को परेड ग्राउंड स्थित बैडमिंटन हाॅल में आयोजित...

गणतंत्र दिवस: सराहनीय सेवाओं के लिए पुलिस अधिकारियों को किया सम्मानित, उद्यान विभाग की झांकी रही प्रथम

देहरादून। 74वें गणतंत्र दिवस पर राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने गुरुवार को परेड ग्राउंड में आयोजित गणतंत्र दिवस समारोह में ध्वज...

गणतंत्र दिवस पर क्रिकेटर ऋषभ पंत की मदद करने वाले हुए सम्मानित

देहरादून। गणतंत्र दिवस के अवसर पर परेड ग्राउंड देहरादून में राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) एवं मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सड़क...

Recent Comments

हेमवती नंदन कुकरेती महामंत्री हिन्दी साहित्य समिति देहरादून on हाईकोर्ट ने चारधाम यात्रा पर लगी रोक को कुछ शर्तों के साथ हटाई