Home धर्म-संस्कृति नींव के पत्थर : राम मंदिर निर्माण में उत्तराखंड की बेटी का...

नींव के पत्थर : राम मंदिर निर्माण में उत्तराखंड की बेटी का योगदान

शकुन्तला बिष्ट नायर को याद करने का मौका

दिनेश शास्त्री
देहरादून। अयोध्या में निर्माणाधीन श्रीराम मंदिर 22 जनवरी से हिंदू धर्मावलंबियों की आस्था के बड़े केंद्र के रूप में पुनर्स्थापित होने जा रहा है और इसकी नींव में जो पत्थर है, उसका संबंध उत्तराखंड से है। वैसे तो राम मंदिर आंदोलन में बढ़ चढ़ कर योगदान देने वाले महंत दिग्विजय नाथ, महंत अवैद्यनाथ और महंत योगी आदित्यनाथ का संबंध भी उत्तराखंड से रहा है किंतु आज हम बात कर रहे हैं देहरादून की बेटी शकुंतला बिष्ट की। इतिहास के पन्ने पलटने पर हमें इसका बोध होता है जो उत्तराखंडी स्वाभिमान को चरम पर पहुंचाता है।
सर्वविदित है कि स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद सन 1949 में जब अयोध्या में रामलला जन्मभूमि स्थित विवादित परिसर में प्रकट हुए तो वहां तुरंत ही पूजन प्रक्रिया आरंभ हो गई थी। उस सम्पूर्ण प्रक्रिया में तत्कालीन फैजाबाद के कलेक्टर के.के. नायर के साथ उनकी पत्नी शकुन्तला बिष्ट नायर की प्रमुख भूमिका थी। तब तत्कालीन प्रधानमंत्री से लेकर संयुक्त प्रांत के मुख्यमंत्री तक ने परिसर से देव प्रतिमाओं को हटाने का निर्देश दिया था, किंतु फैजाबाद के तत्कालीन कलेक्टर के.के. नायर ने यह कृत्य करने से साफ इनकार कर दिया था। इस पर सरकार ने उन्हें निलंबित भी किया, लेकिन उच्च न्यायालय ने उनका निलंबन निरस्त कर दिया था। बाद में 1952 में उन्होंने आईसीएस की नौकरी से स्वेच्छा से सेवानिवृत्ति ले ली। बहुत कम लोग जानते हैं कि उनकी प्रेरणा शक्ति और अत्यंत धर्मभीरू उनकी पत्नी शकुंतला बिष्ट उत्तराखंड मूल की थी। देहरादून के दिलीप सिंह बिष्ट के संपन्न परिवार में जन्मी शकुन्तला बिष्ट जब विनबर्ग गर्ल्स हाई स्कूल मसूरी में पढ़ रही थी तो वहां वह केरल मूल के निवासी और यूपी कैडर के आईसीएस अधिकारी के. के. नायर के संपर्क में आई और इसी मुलाकात में दोनों में प्रगाढ़ता इस कदर बढ़ी कि 20 अप्रैल 1946 को वे दोनों एक दूजे के हो गए और परिणय सूत्र में बंध गए। शकुन्तला बिष्ट ने इसके साथ ही बिष्ट सरनेम छोड़ कर सदा के लिए शकुन्तला नायर हो गई। श्रीमती शकुन्तला के पति पति कडांगलाथिल करुणाकरण नायर यानी के.के. नायर का जन्म 11 सितंबर 1907 को केरल के अल्लेप्पी में हुआ था और उन्होंने मद्रास विश्वविद्यालय, बारासेनी कॉलेज, अलीगढ़ (आगरा विश्वविद्यालय) और यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन से पढ़ाई की। 1930 में वह भारतीय सिविल सेवा में शामिल हुए और गोंडा (1946), फैजाबाद (1 जून 1949 – 14 मार्च 1950) तक उत्तर प्रदेश में विभिन्न जिलों में कलेक्टर सहित कई पदों पर कार्य किया। अत्यंत स्वाभिमानी के.के. नायर ने 1952 में स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेने के बाद इलाहाबाद उच्च न्यायालय में वकालत की प्रैक्टिस शुरू की। नायर अत्यंत धर्म परायण व्यक्ति थे। शायद यही कारण था कि आज जिस राम मंदिर के लोकार्पण के स्वप्न को सनातन धर्मावलंबी साकार होते देख रहे हैं, उसकी नींव में के.के. नायर और उनकी पत्नी शकुन्तला बिष्ट नायर का बहुत बड़ा योगदान है।
सेवानिवृत्ति के बाद नायर दंपत्ति ने देवीपाटन और फैजाबाद (अब अयोध्या) को ही अपना कर्मक्षेत्र बनाया और वहीं स्थाई निवास भी बना दिया।
इस दंपत्ति के राम मंदिर की आधारशिला बनने का ही नतीजा था कि श्रीमती शकुन्तला नायर 1952 में गोंडा वेस्ट (अब कैसरगंज) सीट से लोकसभा के चुनाव में वे हिंदू महासभा के टिकट पर भारी बहुमत से विजयी हुई। वह 1962 से 1967 तक उत्तर प्रदेश विधानसभा की सदस्य रहीं और 1967 में जनसंघ के उम्मीदवार के रूप में उत्तर प्रदेश के कैसरगंज क्षेत्र से लोकसभा के लिए चुनी गईं। वे कुल तीन बार लोकसभा के लिए चुनी गई। लोगों में इस दंपती के प्रति अगाध आस्था इस कदर थी कि वे यहां प्रखर हिंदुत्व का प्रतीक बन गए। लोगों की श्रद्धा का आलम तो देखिए, 1967 के लोकसभा चुनाव में जनता ने उनके ड्राइवर को भी निर्वाचित कर दिया। ऐसे उदाहरण बहुत कम देखने को मिलते हैं। श्रीमती शकुन्तला बिष्ट नैयर आज इस दुनिया में नहीं हैं किंतु उनकी आत्मा आज राममंदिर की परिकल्पना को साकार होते देख निश्चित रूप से प्रफुल्लित हो रही होगी।

————————-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

लोक कलाकारों ने उत्तराखण्ड की समृद्ध लोक संस्कृति की छठा बिखेरी

देहरादून। राजभवन में वसंतोत्सव 2024 में संस्कृति विभाग द्वारा सांस्कृतिक संध्या आयोजित की गई। राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने सांस्कृतिक संध्या...

स्कूल आफ ह्यूमैनिटीज़ रहा ओवरऑल चैम्पियन

क्रिकेट बालक वर्ग में मेडिकल और बालिका वर्ग में नर्सिग सिरमौर देहरादून। श्री गुरु राम राय विश्वविद्यालय की वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिता खेलोत्सव-2024 का रंगारंग प्रस्तुतियों...

एसजीआरआरयू क्रिकेट : फार्मेसी ने एग्रीकल्चरल साइंसेज़ को हराया

देहरादून। श्री गुरु राम राय विश्वविद्यालय (एसजीआरआरयू) की वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिता खेलोत्सव-2024 का दूसरा दिन क्रिकेट, फुटबाॅल, वालीबाॅल, बास्केटबाॅल, शतरंज, कैरम, कबड्डी एवम् बैडमिंटन...

आप नेता ने विधानसभा गेट पर किया प्रदर्शन, गिरफ्तार

गैरसेंण में विधानसभा सत्र ना कराए जाने को लेकर रविंद्र आनंद ने विधानसभा गेट पर किया हंगामा देहरादून । मंडी समिति के पूर्व अध्यक्ष एवं...

सीएम ने सहायक लेखाकार के पद पर चयनित 67 अभ्यर्थियों को वितरित किए नियुक्ति पत्र

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री आवास परिसर में आयोजित नियुक्ति पत्र वितरण समारोह में लोक सेवा आयोग के माध्यम से...

गुलदार के हमलों पर सीएम धामी गंभीर

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने राज्य में मानव वन्यजीव संघर्ष की घटनाओं पर गम्भीर चिंता प्रकट की है। उन्होंने गुलदार और बाघों के...

DM ने नगर निगम ऋषिकेश का निरीक्षण कर परखी व्यवस्थाएं

देहरादून। जिलाधिकारी सोनिका ने नगर निगम कार्यालय ऋषिकेश का निरीक्षण कर व्यवस्थाएं देखी, इस दौरान जिलाधिकारी ने सम्बन्धित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए। नगर...

श्रीमहंत देवेन्द्र दास महाराज ने टपकेश्वर महादेव में टेका मत्था

देहरादून। श्री दरबार साहिब के सज्जादानशीन श्रीमहंत देवेन्द्र दास महाराज ने मंगलवार को टपकेश्वर महादेव के दर्शन किए। मंदिर समिति के द्वारा वैदिक परंपरा...

गौचर में मुख्यमंत्री के रोड शो में उमड़ा जन सैलाब

मुख्यमंत्री ने 400 करोड़ के विकास कार्यो का लोकार्पण एवं शिलान्यास कर सीमांत जनपद चमोली को दी बड़ी सौगात। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने भोजपत्र पर...

मुख्यमंत्री ने कतर से सकुशल लौटे सौरभ वशिष्ठ और उनके परिजनों से की भेंट

देहरादून।  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कतर से सकुशल वापस लौटे नौ सेना के पूर्व अधिकारी सौरभ वशिष्ठ को सम्मानित कर शुभकामनायें दी। मुख्यमंत्री...

Recent Comments

हेमवती नंदन कुकरेती महामंत्री हिन्दी साहित्य समिति देहरादून on हाईकोर्ट ने चारधाम यात्रा पर लगी रोक को कुछ शर्तों के साथ हटाई