Home विविध उत्तराखंड में मिली ज्यादा औषधीय गुण वाली हल्दी, शोध में आया सामने

उत्तराखंड में मिली ज्यादा औषधीय गुण वाली हल्दी, शोध में आया सामने

यूकोस्ट एवं ग्राफिक एरा के साझा शोध में आया चौकाने वाले परिणाम
देहरादून। उत्तराखंड के कई इलाकों में ऐसी हल्दी की भी खेती हो रही है, जो गुणवत्ता में देश के प्रमुख हल्दी उत्पादक क्षेत्रों को भी पीछे छोड$ देती है। लेकिन जानकारी के अभाव में किसान इसे सामान्य हल्दी की तरह बो और बेच रहे हैं।
सामान्यता जनसाधारण हल्दी लेते समय हल्दी की गुणवत्ता पर ध्यान नहीं देता बल्कि बाजार से कोई भी हल्दी को खरीद लेता है। लेकिन अधिक गुणवत्ता वाली हल्दी का सेवन से मानव शरीर पर ज्यादा अच्छे प्रभाव डालता है। लोगों की सेहत को अच्छा रखने और हल्दी की खेती को ज्यादा लाभदायक बनाने के लिए यूकोस्ट और ग्राफिक एरा डीम्ड यूनिवर्सिटी के संयुक्त तत्वावधान में संचालित एक शोध परियोजना से पता चला है कि उत्तराखंड में विश्व स्तरीय गुणवत्ता वाली हल्दी भी होती है।
यूकोस्ट की इस परियोजना के लिए ग्राफिक एरा का लाइफ साईंस डिपार्टमेंट ने उत्तराखंड के विभिन्न इलाकों के साथ ही अन्य राज्यों की हल्दी का भी गहन विश्लेषण किया है। अध्ययन में सामने आया है कि उत्तराखंड के दूरस्थ इलाकों में परम्परागत रूप से बोई जाने वाली हल्दी में कुर्किमिन नामक तत्व की मात्रा काफी अधिक है। यही वह तत्व है जिसे हल्दी में विद्यमान औषधीय गुणों का पैमाना माना जाता है। अब तक के अध्ययन के आधार वैज्ञानिक मान रहे हैं कि इस हल्दी की खेती उत्तराखंड के गांवों से पलायन रोककर वहां समृद्धि लाने में बहुत मददगार साबित हो सकती है।
यूकोस्ट के महानिदेशक डा. राजेंद्र डोभाल ने कहा कि हल्दी की बेहतरीन किस्म खोजने और उसे विकास से जोड$ने के महत्वपूर्ण उद्देश्य से यह परियोजना शुरू की गई है। ज्यादातर स्थानों पर लोग सामान्य किस्म की हल्दी की खेती कर रहे हैं जिसके ज्यादा दाम नहीं मिल पाते। हल्दी की विशेष किस्मों को विकसित करने के साथ ही इस परियोजना के जरिये किसानों को उसकी विशेषताआें की जानकारी देकर उस किस्म की हल्दी की खेती के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। ताकि उन्हें अपने गांव में रहकर ही अच्छी आमदमी के अवसर मिल सकें। इससे पहाड$ों से पलायन रोकने और वहां समृद्धि लाने में मदद मिलेगी।
हल्दी परियोजना के संचालक प्रो. आशीष थपलियाल ने बताया कि उत्तराखंड के 79 स्थानों के साथ ही हल्दी उत्पादन के लिए मशहूर देश के अन्य हिस्सों की हल्दी के नमूनों का ग्राफिक एरा और सीएसआईआर, आईएचबीटी पालमपुर की प्रयोगशालाआें में परीक्षण किया गया है। परीक्षण में मेघालय की लैकाडांग, इंडियन इंस्टीटूट ऑफ स्पाइस रिसर्च (आईसीएआर), कोजईकोडई, केरल की हल्दी की पांच प्रजातियों के विश्लेषण से पता चला है कि इनमें उत्तराखंड के कुछ क्षेत्रों में परम्परागत रूप से बोई जाने वाली हल्दी में कुर्किमिन की मात्रा इनके बराबर और कुछ में इसके बनिस्पत काफी अधिक है। उन्होंने बताया कि अभी खुद किसानों को भी पहाड$ की हल्दी की इस विशेषता की जानकारी नहीं है। वैज्ञानिक रूप से प्रमाणित लैकाडांग और कुछ अन्य प्रजातियों की हल्दी बाजारों में सामान्य रूप से तीन से चार गुनी कीमत पर बिकती है। उत्तराखंड के पौड$ी, उत्तरकाशी और अल्मोड$ा के कई हिस्सों में ऐसी हल्दी पाई गई है जो अपने औषधीय गुणों के कारण इनके बराबर या इनसे अधिक महंगी बिक सकती है। हालांकि लोगों को इसके बारे में जानकारी नहीं है।
परियोजना में ग्राफिक एरा डीम्ड यूनिवर्सिटी के के शोधकर्ताआें के साथ ही यूकोस्ट की वैज्ञानिक डा. अपर्णा सरीन, जीपीजीसी रायपुर, देहरादून की वैज्ञानिक डा. मधु थपलियाल, आईएचबीटी पालमपुर, हिमाचल के वरिष्ठ वैज्ञानिक डा. उपेन्द्र शर्मा भी सम्मिलित हैं। ग्राफिक एरा एजुकेशनल ग्रुप के अध्यक्ष प्रो. कमल घनशाला ने कहा कि इस परियोजना के नतीजे नई उम्मीदें जगाने वाले हैं। उन्होंने कहा कि खेती को अधिक लाभदायक बनाने के लिए प्रयोगशालाआें को खेतों से जोड$ना क्रांतिकारी बदलावों की वजह बन सकता है।
-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

ब्रेकिंग: दून में ट्रक के नीचे दबे कई लोग, देखें वीडियो

देहरादून। देहरादून के चंद्रमणि चौक पर एक्सीडेंट की ख़बर है। जहां कई लोग ट्रक के नीचे दबने की सूचना आ रही है। सूचना पर...

श्रद्धापूर्वक मनाया गया गुरु तेग बहादुर का शहीदी दिवस

देहरादून। गुरुद्वारा श्री गुरु सिंह सभा, आढ़त बाजार, देहरादून के तत्ववाधान में श्री गुरु तेग बहादुर का शहीदी दिवस कथा - कीर्तन के रूप...

गौचर व चिन्यालीसौड़ के लिए जल्द शुरू होगी हवाई सेवा

उड़ान योजना के अगले टेंडर में शामिल की जाएगी गौचर व चिन्यालीसौड़ की हवाई सेवा पिथौरागढ़ से फिक्स्ड विंग एयरक्राफ्ट सेवाएं शुरू करने के लिए...

यूपीसी पैंथर्स बनी अजय गौतम मेमोरियल क्रिकेट टूर्नामेंट का विजेता

उत्तरांचल प्रेस क्लब की  ओर से आयोजित टूर्नामेंट में यूपीसी लॉयंस को छह विकेट से हराया देहरादून। उत्तरांचल प्रेस क्लब की ओर से आयोजित अजय गौतम...

खेलों में भी हैं बेहतर भविष्य की संभावनाएं : रेखा आर्या

खेल मंत्री रेखा आर्या ने किया जिला स्तरीय खेल महाकुंभ का शुभारंभ देहरादून। खेल एवं युवा कल्याण मंत्री रेखा आर्या ने देहरादून स्थित पवेलियन ग्राउंड...

नौसेना में अफसर बना पौड़ी का लाल अभिनव

- नेवल अकादमी में प्रशिक्षण हासिल कर नौसेना में पाया कमीशन - एकेश्वर ब्लाक के चमाली गांव का निवासी है सेकेंड ले. अभिनव रावत देहरादून। पौड़ी...

सीनियर नेशनल बास्केटबॉल चैंपियनशिप के लिए प्रदेश की टीम चयनित

देहरादून। 72वीं सीनियर नेशनल बास्केटबॉल चैंपियनशिप के लिए उत्तराखंड की टीम का चयन कर लिया है। टीम की कमान ओएनजीसी के उदय भान सिंह...

10 दिसंबर को होगी आइएमए में पासिंग आउट परेड

देहरादून। भारतीय सैन्य अकादमी (आइएमए) में पासिंग आउट परेड 10 दिसंबर को होगी। इस दौरान देश-विदेश के जेंटलमैन कैडेट सेना का अभिन्न अंग बनेंगे।...

टेबल टेनिस में तमिलनाडू और पश्चिम बंगाल रहे चैंपियन

देहरादून। उत्तराखण्ड डाक परिमण्डल की ओर से आयोजित 38वीं अखिल भारतीय डाक टेबिल-टेनिस प्रतियोगिता के महिला टीम में तमिलनाडू और पुरूष वर्ग में पश्चिम...

सशक्त उत्तराखण्ड @ 25 को साकार करेगा चिंतन शिविरः सीएम

 महत्वपूर्ण सुझावों को कैबिनेट में लाया जाएगा देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुरूवार को लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी, मसूरी में सशक्त उत्तराखण्ड...

Recent Comments

हेमवती नंदन कुकरेती महामंत्री हिन्दी साहित्य समिति देहरादून on हाईकोर्ट ने चारधाम यात्रा पर लगी रोक को कुछ शर्तों के साथ हटाई